अंतिम अद्यतन : 28/11/2019
राष्ट्रीय संग्रहालय संस्थान
कला इतिहास, संरक्षण एवं संग्रहालय विज्ञान
(विश्वविद्यालयवत्)
संस्कृति मंत्रालय, भारत सरकार
 
 
 
 
 
राष्ट्रीय संग्रहालय संस्थान
 
राष्ट्रीय संग्रहालय संस्थान को सोसाइटीज रजिस्ट्रेशन एक्ट, 1860 के अंतर्गत 27 जनवरी, 1989 को गठित एवं पंजीकृत किया गया। इसे 28 अप्रैल, 1989 को विश्वविद्यालयवत् का दर्जा प्रदान किया गया। यह संस्थान, अपनी स्थापना से अब तक, कला एवं सांस्कृतिक विरासत के क्षेत्र में प्रशिक्षण और अनुसंधान के लिए देश में एक अग्रणी केन्द्र रहा है। यह संस्थान राष्ट्रीय संग्रहालय परिसर के अन्दर स्थित है। इसका उद्देश्य छात्रों को कला और सांस्कृतिक विरासत की सर्वोत्कृष्ट कृतियों के साथ सीधे तौर पर रूबरू कराना और समूचे शिक्षण के लिए राष्ट्रीय संग्रहालय की सुविधाओं, जैसे प्रयोगशाला, पुस्तकालय, भंडारण/आरक्षित संग्रहण तथा तकनीकी सहायक खंडों तक आसानी से पहुँचाना है।
अद्यतन समाचार और समारोह
 

 

कोई नही!

 

 
 
 
   
फोटो गैलरी
   
 
     

     
     
 
   
बिक्री के लिए किताबें:
   
 
     

Conservation of Ancient Bronzes:
A Novel Approach

कीमत: रू.300/-

Rajasthani Miniature Painting

Tradition and Continuity

कीमत: रू.840/-

MA (Museology) Modelling

कीमत: रू.10/-

     
     
 
   
नि:शुल्क किताबें:
   
 
     

Gandhi For All (English)

कीमत: नि:शुल्क

गांधी हैं सबके लिए (हिंदी)

कीमत: नि:शुल्क

Of Muses, Museums & Museology

कीमत: नि:शुल्क

     
     
 
   
शोध - पत्र और अन्य प्रकाशन:
   
 
     

Heritage Education In Asia

कीमत: नि:शुल्क

International Seminar on Museums and The Changing Cultural Landscape, Ladakh

कीमत: नि:शुल्क

Musealization in Contemporary Society

कीमत: नि:शुल्क

     
     
 
   
 
राष्ट्रीय संग्रहालय संस्थान
कला इतिहास, संरक्षण एवं संग्रहालय विज्ञान
(विश्वविद्यालयवत्), संस्कृति मंत्रालय, भारत सरकार
फोनः +91 11 23012106

  होम  |  एफ ए क्यू  |  रिक्तियों की स्थिति  |  ऱिक्तियां  |  निविदा / कोटेशन  |  संस्कृति मंत्रालय के साथ समझौता ज्ञापन  |  आर एफ डी  

  यौन उत्पीड़न पर आईसीसी  |  रैगिंग विरोधी कमेटी  |  आर टी आई  |  शिकायत  |  डाउनलोड  |  साइटमैप  |  सम्पर्क करें  

कॉपीराइट © 2017 राष्ट्रीय संग्रहालय संस्थान, सर्वाधिकार सुरक्षित